Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana 2023 | इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना भर्ती 2023

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana इंदिरा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (आईजीएनआरईजीए), जिसे आमतौर पर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (एमजीएनआरईजीए) कहा जाता है, भारत में एक सामाजिक कल्याण कार्यक्रम है। इसका नाम पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के नाम पर रखा गया था और इसे मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र में ग्रामीण परिवारों को गारंटीकृत रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana
Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana

कार्यक्रम की मुख्य विशेषताओं में शामिल हैं:

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana रोजगार की गारंटी: मनरेगा यह सुनिश्चित करता है कि काम की मांग करने वाले प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों का मजदूरी रोजगार प्रदान किया जाए। यह रोजगार आम तौर पर सड़क, सिंचाई नहरों और अन्य ग्रामीण बुनियादी ढांचे के निर्माण जैसी श्रम-केंद्रित परियोजनाओं में होता है।

न्यूनतम वेतन: कार्यक्रम के तहत श्रमिक राज्य सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी दर पर या उससे ऊपर मजदूरी प्राप्त करने के हकदार हैं। इन मजदूरी का भुगतान समय पर किया जाता है, जिससे ग्रामीण परिवारों के लिए आर्थिक सुरक्षा सुनिश्चित होती है।

महिलाओं पर फोकस: कार्यक्रम महिलाओं की भागीदारी और उन्हें काम करने के लिए प्रोत्साहित करके और उनके समान वेतन सुनिश्चित करके उनके सशक्तिकरण पर जोर देता है।

Teacher’s Day in India | Teachers’ Day Speech in Hindi

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana 2023

मांग-संचालित: यह योजना मांग-संचालित है, जिसका अर्थ है कि ग्रामीण परिवारों के अनुरोध के आधार पर रोजगार प्रदानTeacher’s Day in India | Teachers’ Day Speech in Hindi किया जाता है। यह सुनिश्चित करता है कि जो लोग काम करने के इच्छुक हैं उन्हें अवसर दिए जाएं।

पारदर्शिता और जवाबदेही: मनरेगा का उद्देश्य सभी लेन-देन और कार्य-संबंधी जानकारी का विस्तृत रिकॉर्ड बनाए रखना है, जो जनता को उपलब्ध कराई जाती है।

सामाजिक लेखापरीक्षा: कार्यक्रम में सामाजिक लेखापरीक्षा शामिल है जहां स्थानीय समुदाय किए गए कार्य की गुणवत्ता और प्रभावशीलता का आकलन कर सकते हैं, साथ ही वेतन भुगतान और कार्यक्रम के अन्य पहलुओं को सत्यापित कर सकते हैं।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana
Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana

ग्रामीण विकास: रोजगार प्रदान करने के अलावा, मनरेगा सड़क, तालाब और जल संरक्षण संरचनाओं जैसी टिकाऊ संपत्ति बनाकर ग्रामीण विकास में भी योगदान देता है।

ग्रामीण संकट को कम करना: यह आर्थिक कठिनाई के समय कमजोर ग्रामीण परिवारों को सुरक्षा जाल प्रदान करके ग्रामीण संकट को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana इंदिरा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 में अधिनियमित किया गया था और तब से यह भारत में ग्रामीण गरीबी और बेरोजगारी को संबोधित करने में एक महत्वपूर्ण उपकरण रहा है। इसने लाखों ग्रामीण भारतीयों को आजीविका कमाने और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करने का अवसर प्रदान करके उनके जीवन पर पर्याप्त प्रभाव डाला है।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana इंदिरा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (आईजीएनआरईजीए), जिसे पहले राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (एनआरईजीए) के नाम से जाना जाता था, भारत में एक सामाजिक सुरक्षा और रोजगार सृजन कार्यक्रम है। इसे 2005 में ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक परिवार को 100 दिनों के वेतन रोजगार की गारंटी देकर आजीविका सुरक्षा प्रदान करने और ग्रामीण रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए पेश किया गया था।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana कार्यक्रम की मुख्य विशेषताओं में शामिल हैं:

रोजगार की गारंटी: कार्यक्रम प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक वित्तीय वर्ष में 100 दिनों के वेतन रोजगार की गारंटी देता है, जिनके वयस्क सदस्य अकुशल शारीरिक काम करने के इच्छुक हैं।

न्यूनतम वेतन: नरेगा के तहत नियोजित श्रमिक राज्य सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी दर पर मजदूरी प्राप्त करने के हकदार हैं। ये वेतन समय-समय पर संशोधित किये जाते हैं।

मांग-संचालित: कार्यक्रम मांग-संचालित है, जिसका अर्थ है कि ग्रामीण परिवारों के अनुरोध पर काम प्रदान किया जाता है। यदि वे काम की मांग करते हैं और 15 दिनों के भीतर काम उपलब्ध नहीं कराया जाता है, तो वे बेरोजगारी भत्ते के हकदार हैं।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana महिलाओं की भागीदारी: अधिनियम योजना और कार्यान्वयन के सभी पहलुओं में महिलाओं की भागीदारी पर जोर देता है। लाभार्थियों में कम से कम एक तिहाई महिलाएं होनी चाहिए।

पारदर्शिता: पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए, सभी कार्यों, वेतन और व्यय का विवरण आधिकारिक वेबसाइटों और सार्वजनिक सूचना केंद्रों के माध्यम से जनता को उपलब्ध कराया जाता है।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana स्थानीय शासन: पंचायतें (स्थानीय स्वशासी निकाय) कार्यक्रम के कार्यान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। वे कार्यों की पहचान करने और योजना बनाने, घरों में काम उपलब्ध कराने और कार्यान्वयन की निगरानी के लिए जिम्मेदार हैं।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana सामाजिक लेखापरीक्षा: यह सुनिश्चित करने के लिए सामाजिक लेखापरीक्षा आयोजित की जाती है कि कार्यक्रम प्रभावी ढंग से कार्यान्वित किया जा रहा है और धन का उपयोग इच्छित उद्देश्यों के लिए किया जा रहा है।

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana
Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana

Indira Gandhi Rojgar Guarantee Yojana यह कार्यक्रम रोजगार के अवसर प्रदान करने, गरीबी को कम करने और ग्रामीण भारत में संकटपूर्ण प्रवासन को रोकने में सफल रहा है। हालाँकि, इसे सिस्टम में लीकेज, वेतन भुगतान में देरी और कुछ क्षेत्रों में प्रशासनिक मुद्दों जैसी चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा है।

Leave a Comment